Bihar: शराबकांड ने बढ़ाई नीतीश सरकार की मुश्किलें, भाजपा ने CM से मांगा इस्तीफा, तेजस्वी ने किया बचाव

Date:


पूर्व उपमुख्यमंत्री एवं राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने कहा कि जहरीली शराब से मौत का मामला उठाने से तिलमिलाए नीतीश कुमार भाजपा को बर्बाद करने की धमकी दे रहे हैं, जबकि ऐसी सोच रखने वाले कई लोग खुद ही बर्बाद हो गए और उन्हें कोई पूछने वाला नहीं रहा।

बिहार के सारण में शराब की वजह से 40 लोगों की मौत को लेकर राजनीति जबरदस्त तरीके से हो रही है। भाजपा बिहार में नीतीश सरकार पर खूब हमलावर है। आज भाजपा की ओर से साफ तौर पर कह दिया गया कि नीतीश कुमार का बिहार के जनता से मोहभंग हो गया है। वहीं, भाजपा ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का इस्तीफा भी मांग लिया। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने कहा कि बिहार की जनता से उनका(नीतीश कुमार) मोह भंग हो गया है। उन्होंने कहा कि छपरा में 40 से ज्यादा लोगों की मृत्यु को प्रशासन ने छिपाया और प्रचार किया कि मृत्यु बीमारी से हुई है। 40 लोगों की मृत्यु के बाद (नीतीश कुमार का) यह कहना कि जो पिएगा वो मरेगा शर्मनाक है। 

केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने कहा कि जिस प्रकार से आज बिहार में जहरीली शराब से मौतें हो रही हैं ये चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि हमारे मुख्यमंत्री आपा खो कर जनता पर बरस रहे हैं और कह रहे हैं कि जो पिएगा वो तो मरेगा ही। ऐसे लोगों पर FIR होना चाहिए। भाजपा नेता ने आगे कहा कि नीतीश कुमार की सरकार बेअसरदार है। कोई पीछे से सरकार चला रहा है। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि नीतीश कुमार का अब साया समाप्त हो गया। नीतीश बाबू आप इस्तीफा दो। शराबबंदी के पीछे पूरा भ्रष्टाचार का बाजार गर्म है। आपके आसपास शराबियों की भरमार है। बिहार में शराब से हुई मौत का मुद्दा आज संसद में भी उठा। भाजपा के सांसदों ने नीतीश कुमार की सरकार पर हमला किया और केंद्र से हस्तक्षेप की मांग की। 

वहीं, पूर्व उपमुख्यमंत्री एवं राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने कहा कि जहरीली शराब से मौत का मामला उठाने से तिलमिलाए नीतीश कुमार भाजपा को बर्बाद करने की धमकी दे रहे हैं, जबकि ऐसी सोच रखने वाले कई लोग खुद ही बर्बाद हो गए और उन्हें कोई पूछने वाला नहीं रहा। उन्होंने कहा कि जहरीली शराब पीने से मरने वालों और उनके गरीब आश्रितों को ” महापापी” कहना मुख्यमंत्री की संवेदनहीनता, राजहठ और सत्ता के अहंकार का सूचक है। उन्होंने कहा कि यह लालू प्रसाद की संगत का असर है कि वे माननीय विधायकों के लिए “तुम- तुमको” जैसे संबोधन और “बर्बाद कर देंगे” जैसी सड़क-छाप धमकी पर उतर आये हैं। हालांकि, मोदी ने यह भी कहा कि भाजपा शराबबंदी के पक्ष में है, लेकिन इस नीति के कठोर क्रियान्वयन की समीक्षा भी चाहती है।

नीतीश का बयान

हालांकि ऐसा लगता है कि कहीं ना कहीं शराब कांड में नीतीश कुमार और उनकी सरकार की मुश्किलें बढ़ा दी है और विपक्ष को उन पर हमला करने का बड़ा मौका मिल गया है। आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से इसको लेकर सवाल पूछा गया। उन्होंने कहा कि जो पिएगा वह मारेगा। इसको लेकर भी भाजपा उन पर जबरदस्त तरीके से हमलावर है। नीतीश ने अपने बयान में कहा कि जहरीली शराब से तो शुरू से लोग मरते हैं, जहरीली शराब से अन्य राज्यों में भी लोग मरते हैं। लोगों को सचेत रहना चाहिए क्योंकि जब शराब बंदी है तो खराब शराब मिलेगी ही। जो शराब पियेगा वो मरेगा ही। इस पर पूरी तरह से एक्शन होगा। उन्होंने कहा कि मैंने अधिकारियों को कहा है कि गरीबों को न पकड़ें जो लोग इसका व्यवसाय कर रहे हैं उन्हें पकड़ें। शराब बंदी कानून से कई लोगों को फायदा हुआ है कई लोगों ने शराब छोड़ दी है। 

तेजस्वी का बचाव

बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने सरकार का बचाव किया और बाजपा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि अभी छपरा में शराबकांड हुआ है जिसमें लोगों की मृत्यु हुई है, तो ये लोग (भाजपा) 3-4 महीने पहले कहां थे। जब गोपालगंज कांड हुआ था तब भाजपा वाले मौन धारण किए हुए थे। तब कोई कुछ क्यों नहीं बोल रहा था? इसके साथ ही उन्होंने कहा कि आज केवल नाटक कर रहे थे। जब सत्र चल रहा हो तो बीच में इस तरह का नाटक करना उचित नहीं है। दरअसल, इनके पास कोई मुद्दा नहीं है, ये 2024 को लेकर डरे हुए हैं। 



www.prabhasakshi.com

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by The2ndPost. Publisher: www.prabhasakshi.com

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related