अखिलेश जिस ‘चहेते’ अफसर के बनवाए एक्सप्रेसवे पर इतराते हैं, अब उसी की फोटो पर कस रहे हैं तंज – akhilesh yadav targeted yogi adityanath government by sharing photo of navneet sehgal

Date:


लखनऊः उत्तर प्रदेश में अगले साल फरवरी में होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में निवेशकों को आमंत्रित करने के लिए योगी सरकार के अलग-अलग प्रतिनिधिमंडल विदेश में हैं। बीते दिनों आधुनिक हथियारों के साथ यूपी के मंत्रियों और अधिकारियों की तस्वीरें भी सोशल मीडिया पर वायरल होने लगीं। इसे लेकर अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर तंज कसा है कि दिखावटी निवेश से यूपी का विकास नहीं होता। कागज पर छपी मोमबत्ती दिखाने से उजाला नहीं होता। अखिलेश ने अपने ट्वीट के साथ यूपी के चर्चित अधिकारी नवनीत सहगल की तस्वीर लगाई है, जो एक जमाने में उनके बेहद चहेते अफसर हुआ करते थे।

अखिलेश यादव के नवनीत सहगल पर कसे गए इस तंज के बाद लोग वह दिन भी याद करने लगे हैं, जब वह अखिलेश के करीबी हुआ करते थे। अखिलेश जिस एक्सप्रेसवे को अपनी सरकार की उपलब्धि बताते नहीं थकते, उसके निर्माण कार्य का जिम्मा भी सपा सरकार में नवनीत सहगल के पास था। साल 2017 में जब योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में बीजेपी की सरकार बनी तो अखिलेश की पसंद के अफसर होने के नाते सहगल पर भी गाज गिरी थी और उन्हें एसीएस से हटाकर वेटिंग पर रख दिया गया था।

नवनीत सहगल उन अधिकारियों में गिने जाते हैं, जिनका हर सरकार में जलवा रहा है। मायावती के शासन काल में भी वह प्रदेश के महत्वपूर्ण अफसरों में से एक थे। अखिलेश के समय भी उन्होंने प्रदेश के प्रशासनिक गलियारे में अपनी महत्ता बनाए रखी थी। अखिलेश जब सीएम बने तो उन्होंने नवनीत सहगल को धर्मार्थ कार्य जैसा महत्वहीन विभाग दे दिया था। सहगल ने ही इस दौरान पहली बार काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का खाका खींचा था।

इसके बाद साल 2014 में अखिलेश ने नवनीत सहगल को एक बड़ी जिम्मेदारी दी। तत्कालीन सीएम ने उन्हें अपने ड्रीम प्रोजेक्ट आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे को तेजी से पूरा करने की जिम्मेदारी दी। जब सहगल को यह जिम्मा सौंपा गया था, तब एक्सप्रेसवे के लिए एक इंच जमीन नहीं खरीदी गई थी। कानूनी पचड़े में फंसी परियोजना को सहगल ने न सिर्फ सुलझाया बल्कि 6 महीने के भीतर ही उन्होंने एक्सप्रेसवे के लिए साढ़े 7 हजार एकड़ की जमीन खरीदवा दी। उन्होंने दो साल के रेकॉर्ड समय में 302 किमी लंबा एक्सप्रेसवे बनवाकर अपनी क्षमता साबित कर दी।

यह वही एक्सप्रेसवे है, जिसका जिक्र अखिलेश यादव अपने सरकार की उपलब्धियां गिनाने में सबसे पहले करते हैं। उन्होंने अपने इस ड्रीम प्रोजेक्ट की जिम्मेदारी जिसको दी, उस अफसर पर ही आजकल वह तंज कसने में लगे हैं।



navbharattimes.indiatimes.com

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by The2ndPost. Publisher: navbharattimes.indiatimes.com

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related