कितना सहन करें, कोश्यारी, लोढा, लाड और चंद्रकांत पाटिल पर कौन से आरोप? एमवीए के दूसरे टीजर का सवाल – mahavikas aghadi releases teaser of mahamorcha added all controversial statement of bjp leaders

Date:


मुंबई: महापुरुषों के अपमान के विरोध में महाविकास अघाड़ी (Mahavikas Aghadi) द्वारा शनिवार को मुंबई शहर में शिंदे सरकार (Eknath Shinde Government) के खिलाफ महामोर्चा निकाला जाएगा। इस विराट मोर्चे को सफल बनाने के लिए महाविकास अघाड़ी जोरदार तैयारियां कर रही है। इसके लिए मुंबई (Mumbai) में जगह-जगह बैनर लगाए गए हैं और माहौल तैयार किया जा रहा है। महामोर्चा में आने के लिए लोगों को आवाहन किया जा रहा है। इसी के मद्देनजर एमवीए (MVA) ने आज अपना दूसरा टीजर भी जारी किया है। इसी टीज़र में यह सवाल उठाया गया है कि महापुरुषों का यह अपमान कब तक सहना है। टीजर में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari), मंत्री मंगल प्रभात लोढ़ा (Minister Mangal Prabhat Lodha), विधायक प्रसाद लाड (Prasad Lad) और मंत्री चंद्रकांत पाटील (Chandrakant Patil) के विवादित बयानों को दिखाया गया है। चारों लोगों के बयानों में यह दिख रहा है वो किस तरह से महापुरुषों का अपमान कर रहे हैं। टीजर में राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी सावित्रीबाई फुले और महात्मा फुले की शादी के बारे में बात करते हुए नजर आ रहे हैं। वहीं शिवाजी महाराज को उन्होंने पुराने जमाने का हीरो कहा। जबकि चंद्रकांत पाटिल यह कहते हुए नजर आ रहे हैं कि कर्मवीर भाऊराव पाटिल, बाबा साहेब फुले ने स्कूल शुरू किया लेकिन उन्हें अनुदान नहीं मिला और उन्हें लोगों ने भीख मांगनी पड़ी।

टीजर में मंगल प्रभात लोढ़ा यह बोलते हुए दिखाई दे रहे हैं कि शिवाजी महाराज खुद के लिए नहीं बल्कि हिंदवी स्वराज के लिए आगरा से बाहर आये थे। बिल्कुल उसी तरह से महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ भी पुरानी शिवसेना से बाहर आए हैं। जबकि प्रसाद लाड यह कहकर विवादों में आ गए थे कि छत्रपति शिवाजी महाराज का जन्म महाराष्ट्र के कोंकण में हुआ था। इन तमाम नेताओं के विवादित बयानों को टीजर में दिखाते हुए यह सवाल किया गया है कि आखिर कब तक और कितना सहन किया जाए, क्या सच में अपमान को सहना चाहिए, गलत इतिहास को बर्दाश्त करना चाहिए? यह सवाल टीजर के माध्यम से उठाए गए हैं। इन्हीं तमाम मुद्दों के जरिए महाविकास अघाड़ी समेत राज्य के तमाम विपक्षी दल यह महामोर्चा निकाल रहे हैं। जिसके लिए हल्लाबोल वाली टी-शर्ट और टीजर जारी किया गया है।

ठाणे से आएंगे 10 हजार कार्यकर्ता
महाविकास आघाडी द्वारा 17 दिसंबर को आयोजित हल्लाबोल मोर्चे में ठाणे शहर से एनसीपी के दस हजार कार्यकर्ता शामिल होंगे। एनसीपी ठाणे-पालघर जिला समन्वयक आनंद परांजपे ने पत्रकार परिषद में यह जानकारी दी है। परांजपे के मुताबिक राज्य के पूर्व मंत्री, वर्तमान विधायक जितेंद्र आव्हाड के नेतृत्व में कार्यकर्ता सुबह साढ़े 9 बजे ठाणे से मुंबई कूच करेंगे।

यह होगा महामोर्चे का रूट
मोर्चे की शुरुआत भायखला स्थित रिचर्ड्स ऐंड क्रुडास कंपनी से होगी और समापन मुंबई सीएसटी स्थित मुंबई मनपा कार्यालय के सामने होगा। महामोर्चा सुबह 11.30 बजे शुरू किया जाएगा।



navbharattimes.indiatimes.com

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by The2ndPost. Publisher: navbharattimes.indiatimes.com

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related