Christma 2022 | क्रिसमस की सच्ची भावना को कैसे जीवित रखें, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

Date:


क्रिसमस की सच्ची भावना को कैसे जीवित रखें, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

स्टेलनबोश: यदि मीडिया, लोकप्रिय मनोरंजन और रोजमर्रा की आदतों को संकेतक के रूप में देखें तो क्रिसमस का त्यौहार अब केवल ईसाइयों तक सीमित नहीं रह गया है। धार्मिक और गैर-धार्मिक दोनों पर इसके कुछ समान प्रभाव हैं। लोकप्रिय संस्कृति और मीडिया में क्रिसमस को खुशी, एकजुटता, उदारता और शांति के अवसर के रूप में चित्रित किया जाता है। “मेड फॉर क्रिसमस” जैसी फिल्मों में, जैसी कि लोकप्रिय हॉलमार्क चैनल पर उपलब्ध हैं, इस त्यौहार पर “सब कुछ अच्छा अच्छा होने” का संदेश दिया जाता है। चाहे वह लंबे समय से खोए हुए प्यार का फिर से जागना हो या लंबे और दर्दनाक संघर्ष के बाद परिवार के सदस्यों के बीच मेल-मिलाप हो, लोगों को यह विश्वास हो जाता है कि इस दौरान एक खास तरह का “जादू” अपना असर दिखाता है जो “छुट्टियों के मौसम” के तौर पर जाना जाता है और छुट्टियों का तो कोई धर्म होता नहीं है।

बहुत से लोग खुले तौर पर या मौन रूप से यह मानते हैं कि क्रिसमस और उसके आस-पास के समारोह उनके लिए प्रसन्नता, शांति, खुशहाली और एकजुटता लाएंगे। मेरे शोध में, जो सार्वजनिक धर्मशास्त्र से जुड़े क्षेत्र से है, मैं इस तरह के “विश्वासों” का अध्ययन कर यह समझने की कोशिश करता हूं कि वे कहां से आते हैं, लोग उनपर विश्वास क्यों करते हैं, और हमारे सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक जीवन के लिए उनके क्या निहितार्थ हैं। मैं इन “धर्मनिरपेक्ष मान्यताओं” को पारंपरिक “धार्मिक मान्यताओं” से अलग करने का प्रयास करता हूं। एक धर्मनिरपेक्ष विश्वास औपचारिक रूप से किसी धर्म से जुड़ा नहीं है, या समय के साथ किसी विशेष धर्म से अलग हो गया है। इस अर्थ में, क्रिसमस एक प्रकार की “धर्मनिरपेक्ष आध्यात्मिकता” का प्रतीक बन गया है। यह अपनी धार्मिक जड़ों की तुलना में हमारे युग के प्रमुख प्रतीकों और आकांक्षाओं (जैसे अवकाश, आनंद, सामाजिक नियंत्रण और उपभोग) के साथ बहुत कुछ समान है। 

क्रिसमस को समझना

क्रिसमस, जैसा कि नाम से पता चलता है, ईसा मसीह के जन्म से जुड़ा हुआ है। धर्मशास्त्र के प्रोफेसर के रूप में, मैंने अक्सर मजाक में कहा है, “मसीह यीशु का उपनाम नहीं है”। शब्द “क्राइस्ट” ग्रीक शब्द (क्रिस्टोस) से आया है, जो हिब्रू शब्द “मसीहा” का ग्रीक अनुवाद है। यहूदी लोगों के लिए, और बाद में ईसाइयों के लिए (वे लोग जो अपने मसीहा, यीशु मसीह के नाम पर अपना नाम रखते हैं), मसीहा परमेश्वर का भेजा हुआ मुक्तिदाता था – एक राजा जो ईश्वर के बंदों को उनके उत्पीड़कों से मुक्त करने के लिए आएगा और उन्हें शांति और समृद्धि तक ले जाएगा। ईसाई मानते हैं कि यीशु संकल्पबद्ध मसीहा है। वह प्रेम, शांति और भौतिकवाद के विरोध का संदेश देते हुए आए थे। 

ईसाई इतिहास के आरंभ में, ईसाइयों ने विशेष सेवाओं में यीशु मसीह (संकल्पबद्ध मुक्तिदाता) के जन्म का जश्न मनाना शुरू किया, जिसे लैटिन शब्द मिसा के बाद “मास” के रूप में जाना जाने लगा। इसलिए, यह उन दो शब्दों का संयोजन था जो बाद में एक शब्द बन गया, क्रिसमस, एक त्यौहार जो मसीहा के माध्यम से मुक्ति, शांति और खुशी का जश्न मनाता है। जब इन शब्दों में प्रस्तुत किया जाता है, तो यह पूछना आश्चर्यजनक नहीं होगा कि क्रिसमस की समकालीन प्रस्तुतियों (विशेष रूप से पश्चिमी दुनिया में) का यीशु मसीह के उत्सव से क्या लेना-देना है। ऐसा लगता है कि सांता क्लॉज, स्नोमैन और हिरन ने यीशु और उनके शिष्यों का स्थान ले लिया है। मसीहाई मुक्ति और भौतिकवाद विरोध पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय, क्रिसमस पार्टियों, परिवार के जमावड़े और उपहार देने पर केंद्रित है। दूसरे शब्दों में, बहुत सारी पश्चिमी आधुनिकता की तरह, ध्यान पवित्र से धर्मनिरपेक्ष और ईश्वर से स्वयं मानव की ओर मुड़ गया है। अनुसंधान से पता चलता है कि सात प्राथमिक गतिविधियां और अनुभव हैं जो समकालीन क्रिसमस अवकाश से जुड़े हैं: 

परिवार के साथ समय बिताना,धार्मिक कार्यों में भाग लेना

सांस्कृतिक, राष्ट्रीय या पारिवारिक परंपराओं को बनाए रखना (जैसे क्रिसमस ट्री को सजाना)  उपहार खरीदने के लिए दूसरों पर पैसा खर्च करना दूसरों से उपहार प्राप्त करनादूसरों की मदद करना (जैसे कि एक स्थानीय दान) और, छुट्टी के मजेदार पहलुओं का आनंद लेना (जैसे अच्छा खाना और पीना, आराम करना)। हालाँकि, इसी शोध से पता चलता है कि कई लोगों की, ये “शांतिपूर्ण” और “हर्षित” अपेक्षाएँ पूरी नहीं हो पाती हैं। क्रिसमस अब आनंद, उदारता, पारिवारिक एकजुटता और आराम का अवसर नहीं है।

बल्कि, उत्सव के “मौसम” की समकालीन अपेक्षाओं – जैसे उपहार देना, यात्रा, उत्सव (जैसे कार्य समारोह, पारिवारिक समारोह, और सामुदायिक कार्यक्रम) से जुड़ी लागत – असंतोष, तनाव, संघर्ष और निराशा का कारण बन सकती हैं। शायद आप खुद को इससे जोड़ सकते हैं?  इसके अलावा, महिलाओं पर बोझ अक्सर पुरुषों की तुलना में बहुत अधिक होता है। महिलाओं से अक्सर कार्यक्रमों की व्यवस्था करने, उपहार खरीदने, भोजन तैयार करने, उसके बाद की सफाई करने और शांति बनाए रखने की अपेक्षा की जाती है। 

क्रिसमस की सच्ची भावना को फिर से जगाना

तो, इन वास्तविकताओं को ध्यान में रखते हुए, आप इस वर्ष क्रिसमस की “सच्ची”, या कम से कम ऐतिहासिक “भावना” को फिर से खोजने के लिए क्या कर सकते हैं (चाहे आप धार्मिक हों या नहीं)?  यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं, जो समाजशास्त्रीय शोध पर आधारित हैं। सबसे पहले, सामाजिक और मनोवैज्ञानिक शोध से पता चलता है कि सामान्य तौर पर, लेकिन क्रिसमस पर भी, लोग कहीं अधिक “बेहतर” महसूस करते हैं दूसरा, उन लोगों का उत्साह थोड़ा कम हो जाता है जहां लोगों के अनुभव और अपेक्षाएं “मौसम के भौतिकवादी पहलुओं (खर्च और प्राप्त करने)” पर केंद्रित होती हैं।

इसके अलावा, शोध से पता चला है कि धार्मिक समारोहों में सक्रिय रूप से भाग लेने वाले धार्मिक लोगों को क्रिसमस का अधिक सकारात्मक अनुभव होता है, उनकी उम्मीदें काफी हद तक पूरी होती हैं। इसलिए, चाहे आप ईसाई हैं, या अधिक धर्मनिरपेक्ष आध्यात्मिकता रखते हैं, धन और समय के उचित उपयोग में संलग्न होकर, सकारात्मक उपभोग प्रथाओं को चुनकर मसीह-जन संदेश की ऐतिहासिक “भावना” को फिर से प्राप्त करना बुद्धिमानी हो सकती है।  इसके अलावा, कार्य और प्रयास को साझा करके श्रम और उत्तरदायित्व के लैंगिक विभाजन जैसे मुद्दों पर सावधानीपूर्वक ध्यान दें। ऐसा करने पर, आपके पास बस एक खुशहाल क्रिसमस हो सकता है। (एजेंसी)





www.enavabharat.com

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by The2ndPost. Publisher: www.enavabharat.com

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related