यदि परमाणु हमला हो जाये तो बचने के लिए क्या करना चाहिए? पढ़ें इस सवाल के जवाब में लोगों की सलाह

Date:


दुनियाभर के कई देशों में टकराव की स्थिति आए दिन बनती रहती है, इनमें परमाणु हमले में सक्षम देश भी शामिल हैं. एक ओर जहां रूस और यूक्रेन के बीच महीनों से जंग (Russia-Ukraine War) छिड़ी हुई है तो दूसरी ओर चीन भी भारतीय सीमा (India China Conflict) पर कुछ न कुछ हरकतें करता रहता है. इराक से लेकर नॉर्थ कोरिया (North Korea) भी आए दिन जंग की धमकी देते रहते हैं. सोचिए ऐसे में अगर किसी देश पर परमाणु हमला हो जाए तो क्या होगा? इसी सवाल की जानकारी पाने के लिए एक यूजर ने कोरा (Quora) पर लोगों से पूछा है. इस सवाल के जवाब में कई लोगों ने अपने राय दिए.

इनमें से प्रसून सिंह नाम के एक यूजर ने अपने कमेंट में कहा है कि परमाणु हमले से बचने का एकमात्र उपाय यही है कि ऐसा कोई हमला हो ही न. वहीं, एक अन्य यूजर केके शर्मा ने सलाह दिया है कि जमीन के अंदर जाकर ही विकिरण से बचा जा सकता है. सजल राय नाम के एक यूजर ने लिखा है कि यदि भविष्य में परमाणु हमला होता है तो जान बचाना लगभग नामुमकिन है. हालांकि, इस बारे में खुद को विज्ञान का छात्र बताने वाले शुभम आदित्य ने अपने कमेंट में विस्तार से बताया है. शुभम लिखते हैं, ‘अगर देश में न्यूक्लियर अटैक हो जाए तो लोगों का बचना मुश्किल है. देश में लोगों के लिए कोई शेल्टर नहीं बना है जिससे परमाणु हमला से बचा जा सके. ऐसे में यदि परमाणु हमले वाले क्षेत्र से 5 किमी भी दूर हैं तो आप पूरी तरह जल जाएंगे, वहीं 30 किलोमीटर की दूरी पर होने से आप रेडिएशन के संपर्क में आ जाएंगे. हालांकि, 30 KM दूरी वाले शख्स के पास रेडिएशन क्षेत्र से दूर भागने का समय रहेगा.

शुभम अपने कमेंट में लिखते हैं कि परमाणु हमले से बचने के लिए फिनलैंड में शेल्टर बने हुए है. अतः आप वहीं की नागरिकता ले ले तब आप परमाणु हमला से बच जाएंगे. लेकिन इस दौरान भी आपको सारे जरूरी समान जैसे खाना, दवाई, पीने का पानी, कपड़े इत्यादि रखने होंगे. क्योंकि एक बार परमाणु हमला होने के बाद आप हफ्ते भर बाहर नहीं निकल पाएंगे. परमाणु हमला होने में सबसे ज्यादा असर गामा किरण के कारण होता है और ये दीवारों से आरपार हो जाता है. ऐसे में ये शेल्टर पर निर्भर है कि वह कितना रेडिएशन को रोक पाता है.

हीरोशिमा-नागासाकी पर हो चुका है परमाणु हमला
दुनिया के इतिहास में पहली और आखिरी बार परमाणु बमों का इस्तेमाल दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान हुआ था, जब अमेरिका ने जापान के दो शहरों हिरोशिमा और नागासाकी पर 6 तथा 9 अगस्त 1945 को परमाणु हमला कर दिया था. इस हमले में दोनों शहर पूरी तरह तबाह हो गए. डेढ़ लाख से अधिक लोगों की मौत हो गई और बचे हुए लोग अपंगता के शिकार हो गए. सालों तक लोगों पर इस हमले का असर हुआ और बच्चे भी विकलांग पैदा होते रहे. हालांकि, अब ये दोनों शहर फिर से आबाद हो गए हैं.

Tags: India china dispute, India-china face-off, Nuclear weapon, Russia ukraine war



hindi.news18.com

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by The2ndPost. Publisher: hindi.news18.com

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related