Devendra Fadnavis: कुछ बातें मैंने आपसे सीखी, विधानसभा में देवेंद्र फडणवीस अजित पवार से ऐसा क्यों बोले? – devendra fadnavis slams ncp leader ajit pawar in nagpur assembly

Date:


मुंबई: कुछ बातें मैंने आपसे सीखी है, कहते हुए महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने एनसीपी नेता और विधानसभा अजीत पवार (Ajit Pawar) की खिंचाई की। शीतकालीन अधिवेशन में एक सवाल का जवाब देते हुए देवेंद्र फडणवीस ने यह बात कही है। विधानसभा अधिवेशन के दूसरे दिन आज विकास कामों को स्थगित करने का मुद्दा जोर-शोर से विपक्ष द्वारा उठाया गया। विधानसभा (Maharashtra Assembly) में बोलते हुए अजीत पवार ने शिंदे-फडणवीस सरकार (Shinde-Fadnavis Government) पर आरोप लगाया कि जब से यह सरकार सत्ता में आई है तब से विकास कामों को रोकने का काम शुरू है। पवार ने कहा कि 6 महीने पहले राज्य में शिंदे सरकार की स्थापना हुई थी। उसके पहले की सरकार में जितने भी काम के लिए बजट अप्रूव हुआ था। साथ ही जो काम व्हाइट बुक में शामिल किए गए थे। उन सभी विकास कार्यों को मौजूदा सरकार ने स्थगित कर दिया है।

इस संबंध में मैंने मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री से मुलाकात भी की। सरकारें आती और जाती हैं लेकिन जिस तरह से व्हाइट बुक में शामिल किए गए विकास कार्यों को रोकने का काम इस सरकार ने किया है, ऐसा पहले कभी नहीं हुआ। पवार ने सवाल कि यह सब काम महाराष्ट्र के विकास के लिए ही है। कोई गुजरात या तेलंगाना के लिए नहीं फिर इन कामों को क्यों रोका गया?

फडणवीस का करारा जवाब
अजित पवार का जवाब देते हुए देवेंद्र फडणवीस ने सदन में कहा कि आप सात-सात बार चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे हैं। मैं इससे कम बार चुनाव जीता हूं लेकिन मैंने कई सारी बातें आपसे ही सीखी हैं। स्वर्ण उसने कहा कि जब उधव ठाकरे के नेतृत्व में महाविकास अघाड़ी की सरकार राज्य की सत्ता में आई तब आप उप मुख्यमंत्री बने थे। उस दौरान पूर्ववर्ती बीजेपी सरकार के द्वारा लाए गए विकास कार्यों को रोकने का काम आपने ही किया था। मेरे चुनाव क्षेत्र के भी विकास कामों को आपने रोक दिया था। सबके काम रोके, ढाई सालों तक बीजेपी के विधायकों को एक नया पैसा भी आपकी सरकार द्वारा नहीं दिया गया।

हालांकि, हम अपने मन में बदले की भावना नहीं रखते हैं।जिन कामों को हमने स्थगित किया था उनमें से सत्तर फीसदी कामों पर से स्थगन आदेश वापस ले लिया गया है। फडणवीस ने कहा कि जिन तीस प्रतिशत कामों को फिलहाल रोका गया है, उनमें नियमों की अनदेखी की गई थी। जहां दो हजार करोड़ रुपए दिए जाने चाहिए थे वहां पर छह हजार करोड रुपए दिए गए। आमदनी अठन्नी और खर्चा रुपैया जैसे हालात हो गए हैं। इसलिए हिसाब किताब को देखकर बजट मंजूर किया जाएगा। जो चीजें जरूरी है उनके लिए आवश्यक कदम जरूर उठाया जाएगा।



navbharattimes.indiatimes.com

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by The2ndPost. Publisher: navbharattimes.indiatimes.com

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related