Parliament Diary: China के मुद्दे पर आज भी हुआ हंगामा, Drugs को अमित शाह ने बताया बड़ा खतरा

Date:


केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मादक पदार्थो के कारोबार को ‘सीमा रहित अपराध’ करार देते हुए बुधवार को कहा कि सरकार की नशीली दवाओं के कारोबार और इस से होने वाली कमाई के खिलाफ कतई बर्दाश्त नहीं करने की नीति है तथा इस लड़ाई को केंद्र और राज्य सहित सभी को मिलकर लड़ना होगा।

संसद का शीतकालीन सत्र जारी है। आज भी संसद में चीन के मुद्दे पर जबरदस्त तरीके से हंगामा होता रहा। विपक्षी सांसदों ने नारेबाजी की। इसके कारण लोकसभा की कार्यवाही शुरुआत में स्थगित करनी पड़ी। विपक्षी दल के सांसद जबरदस्त तरीके से चीन के साथ तनाव पर चर्चा की मांग कर रहे थे। वहीं, राज्यसभा में भी सीमा पार से ड्रोन हमलों में आई तेजी का मुद्दा उठाया। विपक्षी दलों ने इस पर सरकार से ठोस कार्यवाही की मांग की। शुरुआती क्षणों को छोड़कर बाकी दिन आज संसद में कामकाज हुआ है। इसी कड़ी में गृह मंत्री अमित शाह नशे को लेकर लोकसभा में अपनी बात रख रहे थे, तभी टीएमसी सांसद के टोके जाने पर वह नाराज हो गए। इसके साथ ही अमित शाह ने साफ तौर पर कह दिया है कि एफसीआरए कानून का दुरुपयोग करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। वहीं आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने किसानों का मुद्दा उठाया और मोदी सरकार की आलोचना की। आज संसद में क्या कुछ हुआ है यह हम आपको बताते हैं। 

– राज्यसभा में कांग्रेस के एक वरिष्ठ सदस्य ने पाकिस्तान से सीमावर्ती राज्य पंजाब और जम्मू एवं कश्मीर में ड्रोन के जरिए मादक पदार्थ व हथियार भेजे जाने के मामलों में हुई वृद्धि पर बुधवार को चिंता जताई और सरकार से अनुरोध किया कि राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर वह इस दिशा में सुधारात्मक कदम उठाए। कांग्रेस के राजीव शुक्ला ने शून्यकाल में यह मुद्दा उठाते हुए सरकार से ड्रोन रोधी तंत्र को मजबूत बनाए जाने की भी मांग की।

– स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने कहा कि इस साल अगस्त के मध्य से दुनिया भर में मंकीपॉक्स के मामलों में कमी आ रही है। उन्होंने राज्यसभा को एक प्रश्न के लिखित उत्तर में मंगलवार को यह जानकारी दी। 

– सरकार ने महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) के तहत राशि जारी करने में विपक्ष शासित राज्यों के साथ भेदभाव के आरोप को सिरे से खारिज करते हुए बुधवार को संसद में कहा कि केंद्र धन देने के लिए तैयार है लेकिन कुछ नियम हैं जिनका राज्यों को पालन करना चाहिए। राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान ग्रामीण विकास राज्य मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने यह बात कही।

– लोकसभा में बुधवार को कांग्रेस के सदस्य गौरव गोगोई ने सरकार पर पेगासस स्पाइवेयर के जरिये नेताओं और पत्रकारों की जासूसी किये जाने का आरोप लगाया। इस पर आपत्ति व्यक्त करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि अगर सदस्य के पास तथ्य हों तब उसे पटल पर रखें और इस सदन का इस्तेमाल ‘स्वच्छंद राजनीतिक आरोपों’ के लिए नहीं करें। 

– केंद्रीय पशुपालन, मत्स्य पालन और डेयरी मंत्री परषोत्तम रूपाला ने बुधवार को कहा कि मुर्गी पालन कारोबार देश की अर्थव्यवस्था का एक मजबूत आधार है, इसलिए केंद्र सरकार ऐसा कोई कदम नहीं उठाएगी जिससे उनके हितों को नुकसान पहुंचे। रूपाला ने राज्यसभा में शून्काल के दौरान यह बात कही।

– केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मादक पदार्थो के कारोबार को ‘सीमा रहित अपराध’ करार देते हुए बुधवार को कहा कि सरकार की नशीली दवाओं के कारोबार और इस से होने वाली कमाई के खिलाफ कतई बर्दाश्त नहीं करने की नीति है तथा इस लड़ाई को केंद्र और राज्य सहित सभी को मिलकर लड़ना होगा। शाह ने कहा, ‘‘नशा मुक्त भारत के लिए हम कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। यह लड़ाई केंद्र या राज्य की नहीं बल्कि हम सभी की है और इसके वांछित परिणाम के लिए बहु-आयामी प्रयास आवश्यक हैं।’’ 

– सरकार ने बुधवार को संसद में कहा कि केंद्र ने राज्यों को परामर्श दिया है कि जो कैदी अपनी सजा पूरी करने के बावजूद जुर्माना नहीं देने के कारण जेल में बंद हैं, उन्हें माफी देकर रिहा किए जाने पर विचार किया जाए। गृह राज्य मंत्री अजय कुमार ने राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान पूरक सवालों के जवाब में यह जानकारी दी।

– कोविड महामारी के दौरान सरकार द्वारा लक्षित ढंग से राहत प्रदान करने के कारण भारत की अर्थव्यवस्था के मंदी में नहीं जाने का दावा करते हुए बुधवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कंपनी क्षेत्र को करों में राहत देने की नीति का बचाव किया और कहा कि यह राहत इस क्षेत्र को कोई तोहफा नहीं है, बल्कि विनिर्माण क्षेत्र को बढा़वा देने के लिए है। 

– आम आदमी पार्टी (आप) के नेता संजय सिंह ने चीन के साथ सीमा पर तनाव के मुद्दे पर संसद में चर्चा नहीं करने के लिए बुधवार को सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि सत्तारूढ़ गठबंधन किसानों को तो अपना ‘‘56 इंच का सीना’’ दिखाता है लेकिन चीन के सामने यह ‘‘0.56 इंच हो जाता है। 

– केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को कहा कि विदेशी अंशदान विनियमन अधिनियम (एफसीआरए) का दुरूपयोग करने वाले एनजीओ एवं संगठनों के प्रति कोई दया भाव नहीं दिखाया जायेगा और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी। 



www.prabhasakshi.com

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by The2ndPost. Publisher: www.prabhasakshi.com

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related