धरती पर ही मौजूद है ‘नर्क का दरवाजा’ जिसमें 50 सालों से जल रही है आग; धीरे-धीरे ले रहा है लोगों की जान!

Date:


अक्सर आपने धार्मिक गुरुओं और बड़े-बुजुर्गों से ये सुना होगा कि इस दुनिया में स्वर्ग और नर्क दोनों होता है. जो अच्छे कर्म करता है, वो स्वर्ग में जाता है और जो बुरे कर्म करता है उसे नर्क में स्थान मिलता है. पर क्या आप ये जानते हैं कि नर्क का दरवाजा असल में इस धरती पर ही मौजूद है? शायद आपको ये जानकर हैरानी होगी, पर ये सच है! धरती पर एक ऐसी जगह है जहां विशाल गड्ढे मौजूद हैं जो सालों से लगातार जल रहे हैं, इन्हें ‘नर्क का दरवाजा’ (The Gates of Hell) कहते हैं.

ट्विटर अकाउंट @fasc1nate के अनुसार तुर्कमेनिस्तान (Turkmenistan giant holes of fire) में ये नर्क का दरवाजा मौजूद है जो असल में विशाल क्रेटर या गड्ढे हैं. ये 230 फीट चौड़े गड्ढे पिछले 50 सालों से लगातार जल रहे हैं. ये इतने बड़े हैं कि एक बड़ी आबादी इसमें समा सकती है. गड्ढे से बराबर निकलने वाली जहरीली गैस आसपास रहने वाले लोगों को धीरे-धीरे मार रही हैं. ये उन्हें अस्वस्थ बनाती जा रही हैं. ये विशाल क्रेटर काराकुम रेगिस्तान में है जो अश्गाबत शहर से करीब 160 मील दूरी पर है. हर वक्त आग जलते रहने के कारण ही इसे ‘माउथ ऑफ हेल’ (Mouth of Hell) या ‘गेट ऑफ हेल’ भी कहा जाता है.

इसी साल की शुरुआत में खबर आई थी कि तुर्कमेनिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति गुरबांगुली बर्दीमुहामेदोव (Gurbanguly Berdimuhamedov) ने ये फैसला किया है कि इन गड्ढों को ढका जाए और इसे पूरी तरह बंद कर दिया जाए. उन्होंने इसके आदेश दे दिए हैं और अपने मंत्रियों से कहा है कि वो विश्व के बड़े एक्सपर्ट्स को खोजें जो इस क्रेटर को बंद करने में सक्षम हों. आग को बुझाने की बहुत कोशिशें की गईं पर लोग नाकाम रहे.

गड्ढे में आग कैसे लगी?
ये गड्ढा हमेशा से यहां मौजूद (How was Mouth of Hell formed?) नहीं था. माना जाता है कि दूसरे विश्व युद्ध के बाद सोवियत संघ के हालात ठीक नहीं थे. उन्हें तेल और प्राकृतिक गैस की काफी आवश्यकता थी. उस वक्त वैज्ञानिकों ने रेगिस्तान में खोदाई शुरू की और तेल खोजने लगे. उन्हें प्राकृतिक गैस तो मिली मगर जहां उन्होंने उसे खोजा वहां जमीन धंस गई और ये विशाल गड्ढे बन गए. गड्ढों में से मीथेन गैस का रिसाव भी तेजी से हुआ. वायुमंडल को ज्यादा नुकसान ना पहुंचे तो इसलिए उन्होंने गड्ढे में आग लगा दी. उन्हें लगा था कि जैसे ही गैस खत्म होगी, वैसे ही आग भी बुझ जाएगी, पर ऐसा नहीं हुआ और 50 साल बाद भी गैस लगातार जल रही है. हालांकि इस दावे की सच्चाई के कोई पुख्ता सबूत नहीं हैं!

Tags: Ajab Gajab news, Trending news, Weird news



hindi.news18.com

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by The2ndPost. Publisher: hindi.news18.com

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related