भारतीय मुस्लमानों को भड़काने के लिए जिहादी साहित्य हिंदी में करना था अनुवाद, जेएमबी के आतंकी की चार्जशीट से हुए चौंकाने वाले खुलासे

Date:


NIA

Pixabay free license

मध्य प्रदेश में पिछले साल अप्रैल में दर्ज जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश मामले में एक ताजा चार्जशीट में एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। एनआईए ने कहा कि प्रतिबंधित संगठन के एक बिहार स्थित ऑपरेटिव “जिहादी साहित्य का उर्दू/अरबी से हिंदी में अनुवाद” किया ।

नयी दिल्ली। मध्य प्रदेश में पिछले साल अप्रैल में दर्ज जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश मामले में एक ताजा चार्जशीट में एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। एनआईए ने कहा कि प्रतिबंधित संगठन के एक बिहार स्थित ऑपरेटिव “जिहादी साहित्य का उर्दू/अरबी से हिंदी में अनुवाद” किया और प्रभावशाली मुसलमानों के बीच इसे प्रसारित करने के लिए इसे सोशल मीडिया समूहों पर अपलोड किया।

बिहार के पूर्वी चंपारण जिले के निवासी अली असगर उर्फ अब्दुल्ला बिहारी उर्फ उमैर, जिसका नाम पूरक आरोप पत्र में दर्ज है, भारतीय उपमहाद्वीप में जेएमबी और अल कायदा जैसे विभिन्न अभियुक्त आतंकवादी संगठनों की विचारधारा से गहराई से प्रभावित था। चार्जशीट में भारत में अपनी गतिविधियों को आगे बढ़ाने का इरादा है।

 

राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) ने प्रतिबंधित संगठन जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश (जेबीएम) की आतंकी गतिविधियों में शामिल एक आरोपी के खिलाफ शुक्रवार को पूरक आरोप पत्र दाखिल किया।
एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।
एनआईए के एक प्रवक्ता ने कहा कि मध्य प्रदेश में भोपाल की एक विशेष अदालत में अली असगर उर्फ अब्दुल्ला बिहारी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता और गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत आरोप पत्र दायर किया गया।

आरोपी बिहार का रहने वाला है।
प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन के 10 सक्रिय सदस्यों को अब तक गिरफ्तार किया गया है, जिनमें बांग्लादेश के छह अवैध प्रवासी शामिल हैं। यह गिरफ्तारी भोपाल के एसटीएफ पुलिस स्टेशन में पिछले साल 14 मार्च को दर्ज मामले में की गई है।

एनआईए ने पांच अप्रैल को इस जांच का जिम्मा संभाला था।एजेंसी ने पिछले वर्ष सात सितंबर को छह आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया था।
प्रवक्ता ने कहा कि जांच में पाया गया है कि असगर जेएमबी तथा अल कायदा जैसे आतंकवादी संगठनों के विचारों से बेहद प्रभावित था और उसका इरादा भारत में उनकी गतिविधियों को बढ़ाना था।

अन्य न्यूज़





www.prabhasakshi.com

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by The2ndPost. Publisher: www.prabhasakshi.com

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related